fbpx
Tally Prime me Group

Tally Prime me Group Kya Hai Aur Ese Kaise Banaye | What is Group in Tally Prime

What is Group in Tally Prime ? How to Create Group in Tally Prime in Hindi ? Tally Prime me group kaise banaye ?

फ्रेंड आज हम इस Article मे हम जानेगे की Tally Prime Me Group Kya Hai? तथा Tally Prime Me Group Kaise Banaya Jata Hai? और साथ मे हम यह भी देखेंगे की Tally Prime मे Group को Alter कैसे किया जाता है और Delete कैसे किया जाता है।

Friends Tally Prime मे Group बनाने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि आखिर मे Group क्या होता है। फ्रेंड ग्रुप (Group) खातो (Ledger) का संग्रहण होता है, जिसके अंदर हम अपनी सुविधा के हिसाब से एक ही Type के खातो (Ledger) को एक ग्रुप (Group) मे रख सकते है।

Friends Tally Prime मे पहले से ही 28 Groups बने होते है। जिसमे से 15 Primary Groups होते है और 13 Sub Groups होते है।

देखा जाए तो Tally मे Group एक तरह का Collection होता है, जिसमे बहुत सारे Ledger’s का, तथा किसी भी Ledger को बनाते समय हमे उसे एक Group मे रखना होता है क्योंकि हर एक Group का अपना एक विशेष प्रकृति Tally Prime Software मे Define किया जाता है।

इसे भी पढे :- Tally Prime All Shortcut Keys in Hindi – Tally Prime के सभी Shortcut Keys के बारे मे जाने हिन्दी मे

How to Create Single Group in Tally Prime ?

Tally Prime मे single group create करने के लिए निम्नलिखित Step को Follow करे।

Step 1 – सबसे पहले अपने Computer मे Tally Prime को open कर ले।

Step 2 – Tally Prime Open होने के बाद जिस Company मे Group बनाना है उस Company को Select करके open कर ले।

Step 3 –  अब आपके सामने Gateway of Tally की Window दिखाई दे रही होगी, इस window पर Create के option पर क्लिक करे।

Step 4 – अब आपके सामने List of Masters की Window open होगी, इसमे आपको Group पर Click करना है।

Step 5 – अब आपके सामने Group Creation की Window open हो जाएगी, इस Window मे आपको जो भी Group Create करना है उसकी Details को Fill कर ले।

Name – इसमे आपको जिस Name से Group बनाना है उस Name को Type कर दे।

Alias – इसमे आप अपने Group का कोई भी Alternative Name दे सकते है या इसे Blank भी छोड़ सकते है।

Under – इसमे आपको अपने Group का Under Group डालना है। आप जैसे ही इस option पर आएगे आपके सामने List of Groups की Window दिखाई देगी इसमे से आपको उस Group को Select करना है। जिसके अंदर इस Group को डालना है। जैसे की यदि आपने किसी को सामान बेचा है और आप चाहते है की उसका Ledger Sundry Debtors Group के अंदर बने Instate Sale Group मे दिखाई दे तो आप Instate Sale Group को Sundry Debtors Group के अंदर डाल दे।

Step 6 – Group behaves like a sub-ledger इस Option को Yes करने से आप जब भी किसी Report को देखते है तो आपको केवल Group का Balance दिखाई देता है। Ledger का Balance दिखाई नही देता है।

Step 7 – Nett Debit/Credit Balance For Reporting इस Option को Yes करने से आप जब भी Trial Balance मे Report देखते है तो आपको Debit और Credit Balance के जगह पर Ledger का कुल Amount दिखाई देता है।

Step 8 – Used for calculation (for example: taxes, discounts) यदि आप चाहते है की जब भी आप इस Group से Releated Entry करे तो Tax और Discount Calculate हो। तो इस Option को Yes कर दे।

Step 9 – Method to allocate when used in purchase invoice यदि आप इस Group का Use Purchase Voucher के लिए करते है। और आप चाहते है की Purchase Bill मे जो Quantity या Value है वह आपकी Purchase Report मे add हो जाए तो इस Option का Use कर सकते है।

Step 10 – अब आप अपने Group को Accept करा दे। आपका Group Create हो जाएगा।

इसे भी पढे :- Tally Prime me Ledger kaise banaye ?

How to Create Multiple Group in Tally Prime ?

Tally Prime मे multiple group create करने के लिए निम्नलिखित Step को Follow करे।

Step 1 – सबसे पहले अपने Computer मे Tally Prime को Open कर ले।

Step 2 – Tally Prime Open होने के बाद जिस Company मे Group बनाना है उस Company को Select करके Open कर ले।

Step 3 –  अब आपके सामने Gateway of Tally की Window दिखाई दे रही होगी, इस Window पर Charts of Accounts के Option पर Click करे।

Step 4 – अब आपके सामने List of Masters की Window Open होगी, इसमे आपको Group पर Click करना है।

Step 5 – अब आपके सामने List of Groups की Window दिखाई देगी यहाँ पर आपको Alt+H Press करना है।

Step 6 – अब आपके सामने Multi-Master की Window दिखाई देगी इसमे से आपको Multi Create पर Click करना है।

Step 7 – अब आपके सामने Multi Group Creation की Window Open हो जाएगी। इसमे पहला Option आपको Under Group का मिलेगा। यदि आप Group किसी एक ही Group से Releated बना रहे है तो आप उस Group का Name Select कर सकते है। जैसे की सभी Group Sundry Debtors से Releated है तो आप Sundry Debtors Group को Select करेंगे। मगर यदि Group अलग-अलग Group से Releated है तो आप Under Group मे All Items को Select कर सकते है।

Step 8 – Name of Group मे Group का Name Type करे, यदि आपने Under Group मे किसी Group का Name Select किया है तो Under मे Automatic उस Group का Name आ जाएगा। मगर यदि आपने Under Group मे All Item को Select किया है तो आपको Group के लिए Group Name को Select करना होगा।

Step 10 – Single Group बनाते समय आपको और भी कई Option मिलते है उन सब Option को अपने Group मे Add करने के लिए Keyboard से Ctrl+I Button Press करे। उसके बाद आपके सामने More Details की Window Open हो जाएगी उसमे से आपको जो भी Details Add करनी है उसे Add कर सकते है।

Step 11 – सारे Details को Fill करने के बाद इसे Accept करा दे अब आपके सारे Group Create हो जाएंगे।

How to alter Group in Tally Prime ?

टैली प्राइम मे ग्रुप को Alter करने के लिए निम्नलिखित Step को Follow करे।

Step 1 –  Gateway of Tally की Window मे Alter का Option दिखाई देगा उस पर Click करे।

Step 2 – अब आपके सामने List of Masters की Window Open होगी, इसमे आपको Group पर Click करना है।

Step 3 – अब आपके सामने List of Group की List Open हो जाएगी अब आपको जिस भी Group को Alter करना है उस पर Click करे।

Step 4 – अब आपके सामने वह Group Open हो जायेगा। अब आप इसमे जो भी Changes करना है उसे करके Accept करा दे।

How to delete Group in Tally Prime ?

टैली प्राइम मे ग्रुप को Delete करने के लिए निम्नलिखित Step को Follow करे।

Step 1 –  Gateway of Tally से Alter के Option पर Click करे।

Step 2 – अब आपके सामने List of Masters की Window Open होगी, इसमे आपको Group पर Click करना है।

Step 3 – अब आपके सामने List of Group की List Open हो जाएगी अब आपको जिस भी Group को Delete करना है उस पर Click करे।

Step 4 – अब आप अपने Keyboard से Alt+D Press करके इस Group को Delete कर सकते है।

इसे भी पढ़े Accounting Voucher | वाउचर क्या होता है? और वाउचर कितने प्रकार के होते है ?

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: