fbpx
Skip to content
Home » Receipt Note in Tally | What is GRN in Tally

Receipt Note in Tally | What is GRN in Tally

Receipt note kya hai, tally me receipt note entry kaise kare ,GRN in tally erp9, what is grn in tally, grn kya hota hai, Goods receipt note in hindi

What is GRN in Tally

आज इस Post में हम सीखेंगे Receipt note Kya hai  Tally में receipt note entry kaise karte Hai. जब Customer supplier को सामान का Order देता है और supplier द्वारा जब उस सामान की Delivery प्राप्त होती है। तो सामान साथ के साथ में एक Document भी भेजा जाता है उसमे प्राप्त सामान की inventory detail लिखी होती है मतलब जो गुड्स भेजे गए है उसका name, quantity, आदि लिखे गये होते है। वैसे तो Receipt Note को computarised तौर पर ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता है। लेकिन ये manually बनाकर भी भेजा जाता है। supplier से प्राप्त सामान को inword register में note किया जाता है। और अगर Accounting के लिए tally software का इस्तेमाल किया जा रहा हो तो टैली में रिसीप्ट नोट एंट्री करके भी किया जा सकता है और इसके फायदे भी है जो इस लेख में आगे बताये गए है.

Tally में रिसीप्ट नोट वाउचर का Use करने से पहले रिसीप्ट नोट को इनेबल करना होंगा। इसके लिए निचे दिए गए Steps को ध्यानपूर्वक पढ़े।

Enable Goods Receipt note in Tally

  • सबसे पहले Tally में उस Company को open करे जिमसे रिसीप्ट नोट का Use करना है।
  • Company Open करने के बाद Right Hand में vertical button bar से F11 : Features पर Click करे। या फिर F11 प्रेस करे।
  • अब company Features के अंतर्गत inventory features पर Click करे।
  • Inventory features में Other features में यूज़ ट्रैकिंग नंबर्स (enable delivery and receipt notes ) को यस करे।
  • अब Ctrl + S Button press करके Setting को Save कर दीजिये।

Tally me receipt note entry kaise kare ?

Tally में रिसीप्ट नोट वाउचर एंट्री कैसे करना है। इसके लिए निचे दिए गए Steps को Follow करे। इस Article में Receipt Note को बहुत ही सरल तरीके से और Details में बताया गया है। जिससे प्रैक्टिकल Tally में Entry करने में आसानी होंगी।

  • सप्लायर से जो Documents प्राप्त होता है वो सप्लायर के लिए Delivery Note होता है और वही Document जब buyer को प्राप्त होता है। तो उसके लिए वो Receipt Note होता है। उसी से प्राप्त item को Check किया जाता है। Receipt Note प्राप्त सामान से Check हो जाने के बाद उस Document के आधार पर  Record के लिए Tally में Receipt Note की Entry की जाती है। अब tally में इसका क्या process है आइये ये जानते है।
  • Gateway of tally से इन्वेंटरी वाउचर्स पर एंटर करे।
  • Receipt Note Entry के लिए shortcut key Alt + F9 का use करे। या फिर vertical button bar से F9 : रिसीप्ट नोट पर Click करे।
  • अब Step By Step रिसीप्ट नोट entry pass करना है।
  • रिसीप्ट नोट नंबर : ये वाउचर नंबर होता है जो टैली  में method of numbering के अनुसार आता है। सामान्यतः ये आटोमेटिक रखा जाता है।
  • Reference number : यहाँ सप्लायर डिलीवरी नोट का Number दिया जाता है।
  • Party A/c name : यहाँ लिस्ट ऑफ़ ledger Account से सप्लायर का नाम Select किया जाता है।
  • Party ledger Select करने के बाद एक window open होगी। जिमसे आर्डर डिटेल्स और सप्लायर डिटेल्स आता है।

Order detail, receipt detail and supplier detail in grn

  • Order No(s) : यदि पहले purchase order की Entry की गयी है। तो यहाँ लिस्ट ऑफ़ ऑर्डर्स में से आर्डर नंबर को Select करना है। Order Number Select करने पर dt. में Order Date आ जाती है। Order Date फिर Cursor list of orders पर आता है यहाँ एक से ज्यादा Order number भी Select किये जा सकते है। यदि प्राप्त Item अलग अलग order form से है तो वे सभी orders यहाँ Select किये जाते है।
  • Other Reference(s) : यहाँ order form से Releated कोई refrence दे सकते है।
  • Receipt Detail : Receipt Details में Received Goods की जरुरी जानकारी दी जाती है। जैसे की जिस Transport के जरिये Goods प्राप्त हुआ है उस Transport का Name, Transport से प्राप्त LR का  Number, destination में जाता सामान, प्राप्त की गयी है वो location.
  • Supplier Details : Party A/c name में supplier का ledger पहले से ही Select किया जाता है। इसलिये यहाँ Ledger में जो detail होता है। वो आ जाता है जैसे supplier name, address, Country, State, GSTIN/UIN.
  • Name of item : Name of Item में items purchase order form से आ जाते है लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि purchase order form में Four item हो और Three item प्राप्त हुए हो ऐसे में उस एक आइटम को Receipt Note में से हटाना होंगा। item पर Ctrl+D Press करने से item revome हो जाता है।
  • Item Allocation for : name of item पर Click करने पर एक Window open होता है जो Item Allocation के लिए होता है जिसमे Kuchh जरुरी Details डाला जाता है।

Receipt

Tracking number in Tally Receipt note voucher

  • Tracking Number : यहाँ पर रिफरेन्स नम्बर में दिया गया नंबर आता है। लेकिन ये जरुरी नहीं की वही ट्रैकिंग नंबर दिया जाये लिस्ट ऑफ़ ट्रैकिंग नंबर में दो नंबर आते है एक रिसीप्ट नोट वाउचर नंबर और दूसरा रिसीप्ट नोट रिफरेन्स नंबर इसके अलावा भी दो option और दिए जाते है। न्यू नंबर और नॉट एप्लीकेबल। न्यू नंबर में रिसीप्ट नोट वाउचर नंबर और रिसीप्ट नोट रिफरेन्स के अलावा और कोई नंबर दिया जा सकता है और नॉट एप्लीकेबल करने पर आइटम के लिए कोई ट्रैकिंग नहीं आता है लेकिन नॉट एप्लीकेबल करने से पहले एक बात जान ले कि यदि Receipt Note में आइटम में ट्रैकिंग नंबर नहीं है तो परचेस इनवॉइस में भी ट्रैकिंग नंबर नहीं आयेंगा ऐसे में रिसीप्ट नोट और परचेस बिल दोनों की Entry होने पर Stock डबल हो जायेंगा। इसलिए आइटम को ट्रैकिंग नंबर देकर परचेस बिल में आइटम में ट्रैकिंग नंबर Select करना चाहिए।
  • Order No : Item जिस परचेस आर्डर से है उस परचेस आर्डर का नंबर यहाँ Select करना है।
  • Location :यदि Goods को एक से ज्यादा Location पर रखा जाता है। तो Tally में location / Godown को भी Maintain किया जा सकता है। और यहाँ पर ये Option तभी आता है जब टैली में godown / location को इनेबल किया गया हो।
  • Quntity : यहाँ क्वांटिटी Fill की जाती है। यदि रिसीप्ट नोट में आर्डर नंबर Select किया गया है। तो Purchase order Form में जो आइटम क्वांटिटी दी गयी है वो यहाँ पर आ जाती है। इस क्वांटिटी एलोकेशन में Changes किया जा सकता है। या फिर अलग अलग Location में बाँटा भी जा सकता है।
  • Narration : यहाँ Receipt Note के लिए narration Fill किया जा सकता है।
  • Accept : Finally अब एक्सेप्ट करने के लिए यस / नो का option आयेंगा। रिसीप्ट नोट वाउचर Save करने के लिए यस पर Click करके या Enter Button press करके एक्सेप्ट किया जाता है।

Tally Receipt Note के बारे में जरुरी बाते :

  • टैली में रिसीप्ट नोट वाउचर Entry करने पर Stock Item की Entry हो जाती है। और जब उस रिसीप्ट नोट के Againts में Purchase Bill की Entry की जाती है तो वो Stock item Purchase Bill से Record होते है।
  • बहुत बार ऐसा होता है कि खरीददार को सामान तो मिल जाता है। पर उसका purchase Bill उसी समय नहीं मिलता है। ऐसे में रिसीप्ट नोट से टैली में ही ट्रैक किया जा सकता है की किस किस Item के Purchase invoice नहीं आये है।
  • Receipt Note Entry बिना Purchase order के भी की जा सकती है।
  • Purchase Bill की Entry करते समय आइटम के लिए रिसीप्ट नोट ट्रैकिंग नंबर Select करना जरुरी है। यही ट्रैकिंग नंबर Select नहीं किया गया तो Stock की डबल एंट्री हो जाएँगी।

Conclusion :

सप्लायर से सामान की डिलीवरी मिलने पर टैली में रिसीप्ट नोट वाउचर में Entry की जाती है। टैली में इसके लिए पहले रिसीप्ट नोट वाउचर को इनेबल किया जाता है। इस वाउचर में ट्रैकिंग नंबर का Use किया जाता है। जब परचेस बिल की Entry की जाती है। तब ट्रैकिंग नंबर द्वारा ही receipt note के Items को परचेस बिल में लिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: